Ladli Behna Yojana Update: नए नियम के अनुसार, 23 से 60 वर्ष की महिलाओं को लाभार्थी बनाया जा सकता है जो इस योजना के तहत योग्य हैं।

Ladli Behna Yojana Update: लाडली बहना योजना में 25 जुलाई 2023 से नए नियम लागू किए गए हैं, जो महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संशोधित किए गए थे। हालांकि, इस संशोधन के तहत 23 से 60 वर्ष की महिलाओं एवं बहनों को इस योजना के लाभार्थी से अपात्र कर दिया गया है। राज्य की लाडली बहनों ने इस नियम के खिलाफ विरोध किया है और उन्होंने इस मुद्दे को राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंग चौहान से संभाल किया है।

Ladli Behna Yojana के दूसरे चरण के लिए प्रारंभ हो चुके हैं, लेकिन दूसरे चरण में अब तक बहुत कम आवेदन हुए हैं। इसका प्रमुख कारण सर्वर की बाधा और 23 से 60 वर्ष की महिलाओं के लिए ट्रैक्टर रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता है। इस संबंध में, जिन महिलाओं के पास ट्रैक्टर नहीं है, उन्हें योजना के लाभ का उपयोग नहीं करने दिया जाएगा।

आपके द्वारा उठाए गए प्रश्न में सीएम शिवराज सिंग चौहान से संबंधित अन्य एक परिस्थिति का उल्लेख भी है। यह परिस्थिति बात करती है कि राज्य की महिलाएं क्यों अपने घर में 8 लाख का ट्रैक्टर होने पर भी हर महीने 1000 रुपए का शुल्क चुकाने को विरोध कर रही हैं। यह एक व्यापक विषय है और ऐसे मामलों में सामान्यतः सरकार द्वारा लिए गए नियम और योजनाओं के पीछे अनेक कारण होते हैं। यह समस्या आम लोगों के लिए अवसरों और लाभों की पहुंच तक की अधिकतम सुविधा सुनिश्चित करने के लिए सरकारी नीतियों और योजनाओं में संशोधन करने की आवश्यकता को उजागर करता है। समाज के सभी वर्गों और व्यक्तियों के हित की रक्षा करने के लिए संबंधित स्तर पर चर्चा और समाधान शुरू किए जाने की आवश्यकता होती है।

Ladli Behna Yojana Update

लाडली बहना योजना के तहत नवीन आवेदनों के लिए 8 लाख का ट्रैक्टर का होना जरूरी होना संबंधित महिलाओं के लिए वास्तव में एक चिंता का विषय बन सकता है। यह विशेष रूप से उन गांवों या क्षेत्रों में जिनमें कृषि और किसानी से जुड़े व्यक्तियों की संख्या अधिक है। जब महिलाओं को ट्रैक्टर के बारे में पूछा जाता है और वे उसे नहीं रखती हैं, तो उन्हें योजना का लाभ प्राप्त करने में कठिनाई हो सकती है। आमतौर पर, सरकारी योजनाओं में योग्यता के अनुसार सुविधाओं की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए कुछ नियम और मापदंड निर्धारित किए जाते हैं, लेकिन ऐसे मामलों में सोचने की जरूरत होती है कि क्या इन नियमों के कारण किसी विशेष समुदाय को लाभ नहीं मिल रहा है और क्या उन्हें भी सुविधाओं का लाभ मिल सकता है जो इस नियम के अधीन नहीं आते हैं।

यह समस्या उठती है कि क्या योजना के तहत 8 लाख का ट्रैक्टर होने की अनिवार्यता के कारण किसी भी नियोजित व्यक्ति को योजना का लाभ नहीं मिलना चाहिए, जबकि इसमें अन्य योग्यता मापदंड हो सकते हैं। इस समस्या को हल करने के लिए सरकार को योजना के नियमों और मापदंडों की समीक्षा करने, और उचित माध्यम से सभी योग्य आवेदकों को सुविधा प्रदान करने का प्रयास करने की जरूरत होती है। इसके साथ ही, समाज में जागरूकता पैदा करने के लिए संबंधित योजनाओं की जानकारी विस्तारपूर्वक पहुंचाई जानी चाहिए ताकि उचित लाभार्थियों को अपने अधिकारों के बारे में पता चल सके।

Ladli Behna Yojana के दूसरे चरण में, निम्नलिखित नियम होंगे:

  1. आयु सीमा: दूसरे चरण में, योजना में शामिल होने के लिए उम्र की सीमा 21 वर्ष से लेकर 23 वर्ष तक रहेगी। इसका मतलब है कि आवेदक की उम्र 1 जनवरी 2023 को 21 वर्ष होनी चाहिए और 23 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  2. विवाहित होना: योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए महिला या बहन को विवाहित होना चाहिए। इसका मतलब है कि अविवाहित होने की स्थिति में व्यक्ति योजना के लाभार्थी के रूप में पात्र नहीं माना जाएगा।

Ladli Behna Yojana का मुख्य उद्देश्य महिलाओं और बहनों की स्वास्थ्य, शिक्षा और उनकी समाज में उन्नति को सुनिश्चित करना है। यह योजना भारत के विभिन्न राज्यों में लागू की जाती है और इसका लक्ष्य बेटी की प्रोत्साहना करना है जो भविष्य में उनके परिवार की गरिमा बनती है।

नवीन आवेदनों के लिए 23 वर्ष से 60 वर्ष की महिलाओं के लिए विशेष पात्रता रखी गई है। दरअसल नवीन आवेदनों में 23 से 60 की सिर्फ वही महिलाएं आवेदान कर सकती हैं जिनके परिवार में ट्रैक्टर है। क्योंकि 23 से 60 वर्ष की महिलाओं के लिए ट्रैक्टर रजिस्ट्रेशन नंबर जरूरी है और और जिसे बाद में RTO द्वारा वेरिफाई भी किया जाएगा। उपरोक्त पात्रता पूर्ण करने के बाद यह भी देखा जाएगा कि आवेदक महिला की वार्षिक आय 2.5 लाख से अधिक है अथवा नहीं। और इससे अधिक स्वघोषित वार्षिक आय होने पर पात्र नहीं माना जाएगा। साथ ही महिला को किसी सरकारी योजना के अंतर्गत पेंशन प्राप्त हो रही है या फिर शासकीय विभाग/ उपक्रम/ स्थानीय निकाय में/ स्थायीकर्मी/संविदाकर्मी होने पर भी पात्र नहीं माना जाएगा।

Scroll to Top